भोपाल: मुख्यमंत्री शिवराज ने अपने मंत्रियों को चेताया, कहा सावधान रहे दलालों से, नायक फिल्म देखी हैं न

भोपाल: मुख्यमंत्री शिवराज ने अपने मंत्रियों को चेताया, कहा सावधान रहे दलालों से, नायक फिल्म देखी हैं न

भोपाल: मुख्यमंत्री शिवराज ने अपने मंत्रियों को चेताया, कहा सावधान रहे दलालों से, नायक फिल्म देखी हैं न
भोपाल/राजकमल पांडे।
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के तेवर और एक्शन पूरे प्रदेश भर आला अफसर को तो हिलाया कर रखा ही साथ अपने मंत्रियों तक को सोचने पर विवश कर दिया है. कि आखिर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह किस मूड में वापसी की है. 8 घंटे चर्चा के बाद तय हुआ कि नए आइडिया पर छइ कैबिनेट सब कमेटी बनेंगी व साथ ही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने मंत्रियों के साथ हुई चाय पर चर्चा में कहा कि ‘‘कई बार आपको पता नहीं चलता. दलाल किस्म का व्यक्ति आपके यहां अंदर जाता और बाहर निकलकर किसी को बोलता है कि मंत्री से बात हो गई. ऐसे बहुत से लोग होते हैं. इनसे सावधान रहें निजी सहायक-निजी सचिव या उनके आसपास के लोग. इनसे सावधान रहें सोच समझकर करें. ऐसे लोगों की कोई जाति नहीं होती, सरकार बदलते ही बदल जाते हैं. मीठी और चिकनी-चुपड़ी बातें करके करीब आते हैं. बिल्कुल ‘नायक’ फिल्म की तरह आपने देखी है न’’ चाय पर हुई चर्चा को शिवराज के मंत्री नसीहत समझ लें या फिर चेतावनी, पर मंत्रियों को चलना शिवराज के बनाये नियम पर ही है. 
गौरतलब है कि मंगलवार को कोलार डेम के गेस्ट हाउस के बाहर पहली मीटिंग हुई जिसमें सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थक मंत्री भी षामिल हुए. गेस्ट हाउस में हुई आठ घंटे की मीटिंग में आत्मनिर्भर मप्र के काम और नए आइडिया पर भी छह कैबिनेट सब कमेटी बनाई गई.
इस प्रकार है कमेटी
कृषि, महिला सशक्तिकरण, रोजगार, अधोसंरचना, स्वास्थ्य और शिक्षा के क्षेत्र में काम करेगी. और मुख्यमंत्री शिवराज ने कहा कि हर तीन माह में इस तरह की बैठक होगी. व जिस दिन भोपाल में रहेंगे, दौरे नहीं होंगे उस दिन एक मंत्री के साथ सुबह चाय पर चर्चा होगी. कैबिनेट की बैठक के बाद कोई विभाग अपनी विशेष उपलब्धि पर अपना प्रेजेंटेशन देना चाहे तो वो दे. व साथ ही मंत्री मेहनत के साथ कुछ समय परिवार को भी दें. वहीं चर्चा के दौरान जब मंत्री इंदर सिंह परमार ने कहा कि चार राज्यों हरियाणा, गुजरात, तेलंगाना और राजस्थान के माॅडल का अध्ययन किया है, हरियाणा माॅडल ठीक है. जल्द ही इसी के आधार पर मप्र में ट्रांसफर पोस्टिंग तय होगी. जिस पर मुख्यमंत्री ने कहा यह तो ठीक है, लेकिन बाकी लोगों के लिए भी ट्रांसफर का साल में एक ही मौका होगा.