सभी खबरें

मध्‍य प्रदेश में अब एलकेजी से पढ़ाई जाएगी संस्कृत ,अभी कुछ खास स्कूल चुने

 मध्यप्रदेश/भोपाल(Bhopal )-: मध्य प्रदेश(Madhya pradhesh)के अभी कुछ चुनिंदा स्कूलों(School) में अब एलकेजी(LKG) से ही संस्कृत की पढ़ाई प्रारम्भ कराई जाएगी।अब  इसी सत्र से प्रदेश के 52 जिलों के सरकारी स्कूलों में संस्कृत की कक्षाएं चालू  की जा रहीं हैं। एलकेजी और यूकेजी(UKG) की कक्षाओं में 30-30 सीटें होंगी। लॉकडाउन(LOckdown) के बाद स्कूल खुलते ही कक्षाओं में नामांकन प्रक्रिया शुरू होगी। इन कक्षाओं का नाम भी संस्कृत में एलकेजी (अरुण) और यूकेजी (उदय) होगा।

 अब इन स्कूलों को सर्वसुविधायुक्त और हाईटेक बनाने के लिए राज्य ओपन स्कूल और महर्षि पतंजलि संस्कृत((Maharishi patanjali sanskrit) संस्थान 20 करोड़ रुपये खर्च कर रहा है। इन स्कूलों में पहली से बारहवीं कक्षा तक हिंदी, अंग्रेजी के साथ संस्कृत भी शामिल की जाएगी। भोपाल के शिवाजी नगर(shivaji nagar) स्थित सरोजनी नायडू (Srojni naydu) कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय का चयन इसके लिए किया  है, जहां एलकेजी से ही संस्कृत में पढ़ाई होगी।

 अब स्‍कूलों में होंगी यह सुविधाएं

अब स्कूलों में स्मार्ट क्लास, खेल मैदान, डिजिटल लायब्रेरी, कंप्यूटर लैब, साइंस व लैंग्वेज लैब, शौचालय, विशेष योग्यता वाले शिक्षक होंगे। प्ले ग्रुप के बच्चों को संस्कृत पढ़ाने के लिए करीब 100 शिक्षकों को प्रशिक्षित किया गया है।

एलकेजी व यूकेजी की किताब में यह शामिल दोनों कक्षाओं की किताब में संस्कृत में ही रंग परिचय, जन्मदिन पर गीत, कौआ व लोमड़ी की कहानी, संख्या परिचय, संख्या गीत, संख्या गिनना, शरीर का नाम, उत्तम बालक पर कविता, वर्ण परिचय, शिशु गीत, शब्दावली, सब्जियों एवं फलों का नाम, प्रार्थना, पक्षियों व पशुओं के नाम, क्रियाएं, स्वर व व्यंजन का अभ्यास, व्यंजन गीत, रंग गीत, चूहा व सिंह की कहानी आदि होंगी।

 प्रभात राज तिवारी, निदेशक, महर्षि पतंजलि संस्कृत संस्थान व राज्य ओपन स्कूल

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button