भोपाल : गैर अधिमान्य पत्रकारों को भी फ्रंटलाइन वर्कर्स की श्रेणी में शामिल किया जाए - पीसी शर्मा

भोपाल : गैर अधिमान्य पत्रकारों को भी फ्रंटलाइन वर्कर्स की श्रेणी में शामिल किया जाए - पीसी शर्मा

मध्यप्रदेश/भोपाल - सोमवार को मध्यप्रदेश के सीएम शिवराज सिंह द्वारा अधिमान्य पत्रकारों को फ्रंटलाइन वर्कर्स (Front line Workers) का दर्जा दिया गया हैैं। मध्यप्रदेश सरकार ने जनसंपर्क विभाग से अधिमान्य पत्रकारों को फ्रंटलाइन वर्कर्स की श्रेणी में शामिल किया हैं। अधिमान्य पत्रकारों को फ्रंटलाइन वर्कर्स की श्रेणी में शामिल होने केे बाद अब गैर अधिमान्य पत्रकारों को भी फ्रंटलाइन वर्कर्स की श्रेणी में शामिल करने की मांग उठी हैं।

पूर्व मंत्री और कांग्रेस के दिग्गज नेता पीसी शर्मा ने सरकार की घोषणा पर सवाल उठाते हुए कहा की गैर अधिमान्य पत्रकारों को भी इस योजना का लाभ मिलना चाहिए।

पीसी शर्मा ने कहा कि हमारे नेता कमलनाथ जी ने पत्रकारों के लिए कोरोना के फ्रंटलाइन वर्कर घोषित करने की मांग की थी लेकिन सरकार ने अधिमान्य पत्रकारों को कोरोना वॉरियर्स माना है कई भारतीय जनता पार्टी के नेता अधिमान्य पत्रकार बने हुए हैं क्या सरकार ने उन्हें इसका लाभ देने के लिए यह घोषणा की है ? बाकी पत्रकार क्या करेंगे, जो फील्ड पर लगातार 24 घंटे काम कर रहे हैं और जनता और सरकार को जानकारी दे रहे है, मेरी सरकार से मांग है कि गैर अधिमान्य पत्रकारों को भी इस योजना का लाभ मिले। 

दरअसल, कोरोना के इस भयावह दौर में एक ओर जहां पूरी देश की जनता घरों में बंद हो गई है, तो वहीं दूसरी ओर हमारे कोरोना वॉरियर्स सभी की सुरक्षा के लिए खुद आगे आकर लड़ाई लड़ रहे हैं, और उन कोरोना वॉरियर्स में से एक पत्रकार भी हैं। 

 

बोल के लब आज़ाद हैं तेरे