भोपाल कलेक्टर का फरमान, सांडों की हो नसबंदी, सांसद साध्वी प्रज्ञा ने जताया विरोध, कह डाली ये बात 

भोपाल कलेक्टर का फरमान, सांडों की हो नसबंदी, सांसद साध्वी प्रज्ञा ने जताया विरोध, कह डाली ये बात 

भोपाल : भोपाल कलेक्टर अविनाश लवानिया ने बीती 29 सितंबर 2021 को सांडों की नसबंदी को लेकर आदेश जारी किए थे। इसमें संबंधित अधिकारियों को 4 अक्टूबर से 23 अक्टूबर तक नसंबदी अभियान चलाने के लिए कहा गया था। आदेश में लिखा था कि गांव में पशुपालकों के पास, गौशालाओं में उपलब्ध और निकष्ट सांडों के नसबंदी विभागीय और गैर विभागीय निशुल्क की जा रही है। इसमें संबंधित अधिकारियों को अभियान की शत प्रतिशत लक्ष्य सुनिश्चित करने की बात कही गई है। साथ ही अधिकारियों को दिशा-निर्देश भी दिए गए हैं। सरकारी अनुमान के मुताबिक प्रदेश में ऐसे करीब 12 लाख सांड हैं।

भोपाल कलेक्टर द्वारा जारी इस आदेश पर अब भोपाल से भाजपा सांसद और दिग्गज नेत्री साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने अप्पति जताई है। उन्होंने इसे प्रक्रति के साथ खिलवाड़ बताया है, और कहा कि यदि देसी सांडों की नसबंदी की गई तो नस्ल ही खत्म हो जाएगी। उन्होंने सोशल मीडिया पर जानकारी देते हुए कहा कि सांडों को गलत तरीके से और निर्दयता से नसबंदी करने की जानकारी मिली। इस संबंध में उन्होंने तत्काल भोपाल कलेक्टर, पशुपालन मंत्री और मुख्यमंत्री से रोक लगाने का आग्रह किया। 

इतना ही नहीं खबर है कि सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने सांडों की नसबंदी को रोकने के लिए तमाम जगहों पर बातचीत की है। उनकी मांग है कि भोपाल कलेक्टर के द्वारा जारी किए गए नसबंदी के आदेश को रोका जाए। वहीं, इस पुरे मामले पर पशुपालन अपर मुख्य सचिव जेएन कंसोटिया ने कहा कि निकृष्ट सांडों की संख्या में निरंतर हो रही वृद्धि को देखते हुए बधियाकरण कराया जा रहा है। यह सतत प्रक्रिया है। पिछले कई सालों से यह कार्यक्रम चल रहा है। इसी क्रम में अभी होगा।