सभी खबरें

भोपाल में CS मोहंती से मिलने के बाद नर्म पड़े डॉक्टर्स के तेवर, वापिस लिया इस्तीफा

भोपाल से खाईद जौहर की रिपोर्ट – प्रदेश भर के 13 सरकारी मेडिकल कॉलेजों (Medical Colleges) के तीन हजार से ज्यादा मेडिकल टीचर्स ने सामूहिक इस्तीफा दिया था। इस इस्तीफे के साथ टीचर्स ने प्रदेश सरकार को चेतावनी दी थी कि अगर 9 जनवरी तक उनकी मांग को पूरा नहीं किया, तो वह मेडिकल टीचर का पूरी तरह से काम बंद कर देंगे। लेकिन अब मेडिकल टीचर्स ने अपना सामूहिक इस्तीफा वापस ले लिया हैं। बताया जा रहा है की ये फैसला मुख्य सचिव एसआर मोहंती (SR Mohanty) और चिकित्सा शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव के साथ हुई बैठक के बाद लिया गया हैं।

मुख्य सचिव ने बैठक के बाद कहा की अब मेडिकल टीचर्स किसी भी तरह की आगे हड़ताल नहीं करेंगे। उन्होंने बताया कि बैठक में मेडिकल टीचर्स को पदोन्नति और वेतन विसंगति मामले का जल्द निराकरण करने का आश्वासन दिया हैं।

इससे पहले मेडिकल टीचर्स का कहना था कि 2016 से सभी सरकारी विभाग के अधिकारियों-कर्मचारियों को सातवें वेतनमान का लाभ मिलने लगा है, लेकिन मेडिकल टीचर्स को 4 साल बाद भी इससे दूर रखा गया। मेडिकल टीचर्स का कहना था कि सरकार भी हमारी मांगो को लेकर कोई ध्यान नहीं दे रही हैं। इसलिए सभी मेडिकल टीचर्स ने सामूहिक इस्तीफा देने का फैसला लिया था।

इसलिए मेडिकल टीचर्स की मांगो पर झुकी कमलनाथ सरकार

प्रदेश सरकार को टीचर्स के आगे इसलिए झुकना पड़ा, क्योंकि इनके आंदोलित होने से प्रदेश की स्वास्थ्य व्यवस्था प्रभावित होने वाली थी। मरीजों के साथ जूनियर डॉक्टर्स की पढ़ाई पर इसका असर पढ़ने वाला था। अब सरकार का कहना है कि इस मामले को गंभीरता से लिया जाएगा। साथ ही सरकार ने इनकी मांगों को जल्द पूरा करने का आश्वासन दिया हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button