अजब गजब है "शिव राज" सरकार, साल 2018 के चयनित शिक्षकों की अब तक नहीं हुई भर्ती, और नए 24 हज़ार शिक्षकों को भर्ती करने की बात कही

अजब गजब है "शिव राज" सरकार, साल 2018 के चयनित शिक्षकों की अब तक नहीं हुई भर्ती, और नए 24 हज़ार शिक्षकों को भर्ती करने की बात कही

अजब गजब है "शिव राज" सरकार, साल 2018 के चयनित शिक्षकों की अब तक नहीं हुई भर्ती, और नए 24 हज़ार शिक्षकों को भर्ती करने की बात कही


भोपाल/गरिमा श्रीवास्तव:- मध्यप्रदेश में इन दिनों विधानसभा सत्र चल रहा है आज यानि मंगलवार को मध्यप्रदेश का बजट पेश किया गया. शिवराज सरकार के चौथे काल का यह पहला बजट है जिसे वित्त मंत्री जगदीश देवड़ा ने विधानसभा में पेश किया.
 सत्र में यह बात कही गई थी स्कूलों में 1 साल में 24 हज़ार 200 नए शिक्षकों की भर्ती की जाएगी..
 मध्यप्रदेश में 2018 से चयनित शिक्षक भर्ती प्रक्रिया अब तक नहीं पूरी हुई. और सरकार ने सत्र के दौरान यह बात कही है कि स्कूलों में 1 साल में 24200 नए शिक्षकों की भर्ती की जाएगी.

चयनित शिक्षकों ने भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा को सौंपा ज्ञापन, भर्ती प्रक्रिया की देरी पर जताया आक्रोश

 मध्यप्रदेश में चयनित शिक्षक भर्ती को लेकर जिन शिक्षकों का चयन हुआ है वह लगातार सरकार से गुहार लगा रहे हैं कि जल्दी उनकी भर्ती प्रक्रिया पूरी की जाए. सरकार सिर्फ उनसे वादे कर रही है. चयनित शिक्षक संघ ने दौरे पर आए बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा को इसी तारतम्य में ज्ञापन सौंपा. चयनित शिक्षकों ने इस दौरान अपना आक्रोश भी दिखाया. शिक्षकों का कहना है कि 2018 में प्रदेश सरकार ने माध्यमिक और उच्च माध्यमिक शिक्षा के 30000 पदों पर भर्ती निकाली थी इसमें उनका केवल दस्तावेजों का सत्यापन बाकी रह गया है लेकिन दुर्भाग्यपूर्ण है कि जो भर्ती 2 साल पहले पूरी होनी थी वह तीसरे वर्ष में भी लंबित पड़ी है. लगातार गुहार लगा रहे हैं.
 चयनित शिक्षकों ने दंडवत मार्च भी किया. बता दें कि इसके लिए प्रदेश में सैकड़ों ज्ञापन और 40 आंदोलन किए गए.पर अभी भी स्थिति वैसी ही है. महिला चयनित शिक्षकों ने सरकार को चेताया है कि अगर शिक्षक भर्ती पोर्टल अपडेट नहीं किया गया तो 8 मार्च को महिला दिवस पर चयनित महिलाएं महा आंदोलन करेंगी.