भाजपा नेता ने SDM-पत्रकार पर लगाये भ्रष्टाचार के आरोप, पत्रकारों ने नेता के खिलाफ खोला मोर्चा

भाजपा नेता ने SDM-पत्रकार पर लगाये भ्रष्टाचार के आरोप, पत्रकारों ने नेता के खिलाफ खोला मोर्चा

भाजपा नेता द्वारा पत्रकारों के लिए अमर्यादित बयान के खिलाफ पत्रकारो में खोला मोर्चा।

पिपरिया। होशंगाबाद जिले के पिपरिया में 20 सितंबर को भाजपा द्वारा प्रदेश सरकार के खिलाफ पिपरिया के मंगलवारा चौराहे पर हुई आम सभा मे भाजपा नेता नवनीत नागपाल द्वारा पत्रकारों के लिए मंचीय मर्यादा से हटकर संबोधन किया

स्थानीय पत्रकार ओम रघुवंशी ने सोशल मीडिया पर पोस्ट डालते हुए भाजपा नेता के बयान का विरोध किया था, जिसमे शहर के अन्य पत्रकारों एवं जागरूक नागरिको ने भी पत्रकारों का समर्थन किया था।  

इस वीडियो में साफ नजर आरहा है भाजपा नेता काँग्रेस सरकार का विरोध करने के जोश में एस डी एम  पर पत्रकारों को पैसे देने के आरोप गढ़ दिए । यही वजह है की यह मामला नगर में चर्चा का विषय बना हुआ है ।

इस फेसबुक लिंक पर देखे पूरा वीडियो:-

https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=2473737586066553&id=100002910073488

इसमे कहां गया कि एसडीएम के तबादले की खबर किसी भी पत्रकार ने अपने अखबार में नहीं छापी क्योंकि एसडीएम से पैसे मिलना बंद हो जाते।
भाजपा जैसी सम्मानित और लोकप्रिय पार्टी के मंच से सारे पत्रकारों को सार्वजनिक रूप से अकारण नीचा दिखाना अशोभनीय है।
 इसी के साथ आर्थिक भ्रष्टाचार के आरोप से भी सभी पत्रकार दुखी हैं।


 भाजपा नेता नवनीत नागपाल के इस बयान के खिलाफ पिपरिया के पत्रकारों ने भाजपा प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह के नाम जिला अध्यक्ष हरिशंकर जयसवाल को ज्ञापन सौंपकर कार्रवाई की मांग की है।

इस दौरान शहर के पत्रकार शकील नियाजी, अलकेश तिवारी, हरीश पांडे, राजवर्धन बलदुआ, राजा पटेल, तरुण सिलावट, मनीष शर्मा, संदीप चौरसिया, संदीप मेहरा, भगवान सिंह राजपूत, राजेन्द्र सोनिया, नर्मदा पटेल, ओम प्रकाश वर्मा, आदि पत्रकार मौजूद रहे।

गौरतलब हो कि भाजपा नेता नवनीत नागपाल अक्सर अपने बड़बोले बयानों के चलते सुर्खियों में रहते हैं ।

9वे महीने को लिखा 10वा महीना.. 

20 सितंबर को मंगलवारा चौक पर आयोजित आम सभा के पोस्टर में भाजपा नेता बड़ी चूक कर बैठे।

दरसल काँग्रेस का विरोध करने में मशगूल  रहे भाजपा के बड़े नेता भूल चुके की सितंबर काहीना 10 वा नही 9वा होता है।