ICAI को CA Exam की क्यों हड़बड़ी, COVID-19 की चिंता क्यों नहीं? एग्जाम बन गया है मज़ाक –रवीश कुमार 

ICAI को CA Exam की क्यों हड़बड़ी, COVID-19 की चिंता क्यों नहीं? एग्जाम बन गया है मज़ाक –रवीश कुमार 

ICAI को CA Exam की क्यों हड़बड़ी, COVID-19 की चिंता क्यों नहीं? एग्जाम बन गया है मज़ाक –रवीश कुमार 

  • CA परीक्षा को लेकर अहमदाबाद में ज़बरदस्त प्रदर्शन
  • ICAI ने बना दिया एग्जाम का मज़ाक,2 दिन पहले भी बदल दिया एग्जाम सेंटर
  • CA छात्रों को मानसिक और आंतरिक दबाव महसूस कराया जा रहा है , ऐसे में परीक्षा में पड़ेगा प्रभाव

द लोकनीति डेस्क भोपाल
इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया (ICAI) द्वारा सीए छात्रों की परीक्षा में देरी के बाद भी कथित तौर पर परीक्षा के पुख्ता इंतजाम ना होने पर एनडीटीवी के पत्रकार रवीश कुमार ने संस्था को निशाने पर लिया है। उन्होंने कहा कि आईसीएआई को सीए की परीक्षा क्यों करानी पड़ रही है, उन्हें कोरोना वायरस महामारी की चिंता क्यों नहीं है। संस्था की वेबसाइट पर इसके नोटिफिकेशन के अनुसार मॉक टेस्ट और इन्फोर्मेशन सिस्टम्स ऑडिट एलिजिबिलिटी टेस्ट (ISA ET) जो 20 नवंबर और 28 नवंबर को होना था उसे किसी कारण रद्द कर दिया गया है। अब नई परीक्षा तारीखों की घोषणा की गई है।

पत्रकार रवीश कुमार 19 नवंबर की अपनी फेसबुक पोस्ट पर इस संबंध में लिखते हैं कि ‘ICAI चारटर्ड अकाउंटेंट की संस्था है। इस संस्था की हाल देखिए कि आठ महीने में CA का इम्तहान ऑनलाइन कराने का बंदोबस्त नहीं कर सकी है। अब इसने परीक्षा का ऐसा कैलेंडर निकाला है जो कोई दिनों तक चलेगा। ऐसा नहीं कि एक घंटे की परीक्षा दी और खत्म।


पोस्ट में कहा गया कि छात्रों को बार बार उसी सेंटर में आना होगा। एक तरफ अहमदाबाद में कर्फ़्यू लगने जा रहा है क्योंकि कोविड-19 का प्रसार नियंत्रित हो सके और यहां है कि परीक्षा हो रही है। छात्रों की बात सही है कि साढ़े चार लाख छात्र अगर परीक्षा के दौरान संक्रमित हो गए तो उनकी परीक्षा और सेहत का क्या होगा? छात्र कोई दिनों से ट्विटर पर लिख रहे हैं मगर किसी को तो ध्यान देना चाहिए।