रिलीज़ से पहले अक्षय कुमार की फ़िल्म बेल बॉटम विवादों में ,कास्टिंग डायरेक्टर पर लगा रेप का आरोप

रिलीज़ से पहले अक्षय कुमार की फ़िल्म बेल बॉटम विवादों में ,कास्टिंग डायरेक्टर पर लगा रेप का आरोप

रिलीज़ से पहले अक्षय कुमार की फ़िल्म बेल बॉटम विवादों में ,कास्टिंग डायरेक्टर पर लगा रेप का आरोप

  • अगले साल तक आने वाली है फिल्म बेल बॉटम 
  • उससे पहले ही एक बड़े विवाद में फंस गई है. 
  • रेप जैसे संगीन आरोप लगे ,
  • एक्ट्रेस के मुताबिक फिल्म के कास्टिंग डायरेक्टर आयुष तिवारी ने उसके साथ दुष्कर्म किया

द लोकनीति डेस्क भोपाल 

अक्षय कुमार की फिल्म आने वाली है. ‘बेल बॉटम’. अगले साल रिलीज़ की जाएगी. पर उससे पहले ही एक बड़े विवाद में फंस गई है. और बात भी संगीन है. एक टीवी एक्ट्रेस ने आरोप लगाया है. एक्ट्रेस के मुताबिक फिल्म के कास्टिंग डायरेक्टर आयुष तिवारी ने उसके साथ दुष्कर्म किया. शादी का झांसा दिया और दो साल तक रेप करता रहा. यही नहीं, बल्कि बार-बार पॉर्न वीडियो भेजकर परेशान भी करता रहा.

मुंबई के वर्सोवा थाने में केस दर्ज हो चुका है. वर्सोवा थाने के सीनियर इन्स्पेक्टर राघवेंद्र ठाकुर ने पीटीआई से बात करते हुए कहा,

हमनें इंडियन पीनल कोड सेक्शन 376 (रेप ) के तहत एफआईआर दर्ज कर ली है. अभी तक कोई गिरफ़्तारी नहीं हुई है. हम इस केस की जांच कर रहे हैं.

‘बेल बॉटम’ का नाम न्यूज में आने पर फिल्म की टीम का भी रिएक्शन आया. और उन्होंने इस बात से साफ़ इंकार किया कि आयुष तिवारी नाम के किसी शख्स का फिल्म की कास्टिंग से कोई लेना-देना है. फिल्म के कास्टिंग डायरेक्टर वैभव विशान्त ने अपना स्टेटमेंट देते हुए ट्विटर पर एक लंबा सा पोस्ट लिखा. वे लिखते हैं,

ये देखकर दुख होता है कि फिल्म और फिल्म से जुड़े लोगों का नाम ऐसे उछाला जा रहा है. मैं ‘बेल बॉटम’ का कास्टिंग डायरेक्टर हूं. आरोपी आयुष तिवारी मेरी कंपनी में एक फ्रीलांस इन्टर्न था. उसका फिल्म या उसकी कास्टिंग से कोई वास्ता नहीं है. उसने कभी भी ‘बेल बॉटम’ पर काम नहीं किया


अपनी बात बढ़ाते हुए वे लिखते हैं,

ये वाकई निराशाजनक है कि कुछ मीडिया पब्लिकेशन्स क्लिकबेट के लिए किसी भी हद तक जा रहें है, कुछ भी तथ्यहीन बातें छाप रहें हैं. मैं उम्मीद करता हूं कि पुलिस इस केस की निष्पक्ष जांच करेगी और न्याय होगा. हालांकि, मीडिया पब्लिकेशन्स से रीक्वेस्ट है कि अपने फेक्ट्स सही करें और ‘बेल बॉटम’ का नाम इससे ना जोड़ें.

बता दें कि पुलिस ने 26 नवंबर को केस दर्ज कर लिया था. अभी तक कोई गिरफ़्तारी नहीं हुई है. हालांकि, आयुष तिवारी को अगले हफ्ते स्टेशन बुलाया है.