हम पहले "शून्य" थे, और अब भी "शून्य" है, यह हमारी हार नहीं "भाजपा" की हार है - कांग्रेस नेता

हम पहले "शून्य" थे, और अब भी "शून्य" है, यह हमारी हार नहीं "भाजपा" की हार है - कांग्रेस नेता

नई दिल्ली -  दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए 8 फरवरी को मतदान हुआ। 11 फरवरी को नतीजे सामने आए, जिसमे एक बार फिर आम आदमी पार्टी दिल्ली में एक बड़ी पार्टी बनकर उभरी। 'आप' ने 70 विधानसभा सीटों में से 62 सीटों पर जीत दर्ज की। जबकि बीजेपी ने बाकी के 8 सीटों पर कब्जा जमाया वहीं कांग्रेस खाता नहीं खोल पाई। 

इस चुनावी नतीजों के बाद कई दिग्गज नेताओं की प्रतिक्रियाएं सामने आई। कई दिग्गज नेताओं ने आप को जीत की बधाई दी, तो कई नेताओं ने बीजेपी की हार पर सवाल उठाए। इसी बीच कांग्रेस की हार एक बार फिर चर्चा का विषय बनी रहीं। कांग्रेस के हाथो इस बार भी कुछ नहीं लगा। लेकिन कांग्रेस अपनी हार से ज़्यादा दुखी नज़र नहीं आ रही हैं। कांग्रेस अपनी हार से ज़्यादा बीजेपी की हार पर खुश नज़र आ रहीं हैं। 

बता दे कि चुनावी नतीजों के बाद कांग्रेस नेता एवं पंजाब के कैबिनेट मंत्री साधु सिंह धर्मसोत का एक बयान सामने आया। जिसमे उन्होंने कहा कि दिल्ली में उनकी पार्टी हारी नहीं हैं। इसके पीछे उन्होंने तर्क भी दिया। उन्होंने कहा कि ‘‘हम पहले शून्य थे, और अब भी शून्य हैं। इसलिए यह हमारी हार नहीं हैं। यह भाजपा की हार हैं। 

वहीं, दूसरी तरफ पंजाब विधानसभा में विपक्ष के नेता हरपाल सिंह चीमा ने दिल्ली विधानसभा चुनाव में आप के प्रदर्शन को ‘‘नफरत और गंदी राजनीति पर विकास के एजेंडे की जीत'' करार दिया। 

बताते चले की कांग्रेस को साल 2015 में भी एक भी सीट हाथ नहीं लगी थी। और इस बार भी पार्टी के हाथो कुछ नहीं लगा।