तीन युवा इंजीनियरिंग की पढ़ाई छोड़ रेप फ्री इंडिया अभियान पर निकले, जशपुर में कही ये बात ?

तीन युवा इंजीनियरिंग की पढ़ाई छोड़ रेप फ्री इंडिया अभियान पर निकले, जशपुर में कही ये बात ?

 

सबको पता है कि देश में दिन-ब-दिन रेप के मामले बढ़ते जा रहे हैं। रेप की बढ़ती वारदातों से तीन युवा इतने आहत हुए कि इंजीनियरिंग की पढ़ाई और नौकरी छोड़कर रेप मुक्त भारत अभियान पर निकल पड़े हैं।  

जशपुर:  देश में रेप की बढ़ती वारदातों से तीन युवा इतने आहत हुए कि इंजीनियरिंग की पढ़ाई छोड़ दी और नौकरी भी। इसके बाद रेप मुक्त भारत अभियान पर निकल पड़े। इस अभियान के लिए 50 हजार किलोमीटर की साइकिल यात्रा तीनों युवा कर रहे हैं। युवाओं का दावा है कि साइकिल यात्रा के दौरान वे तीन साल पूरे भारत मे घूमकर रेप मुक्त भारत बनाने की अपील करेंगे। तीनों युवा दिल्ली और राजस्थान के रहने वाले हैं। हाल ही में वे छत्तीसगढ़ के जशपुर पहुंचे हैं और वहां के लोगों को सम्बोधित भी किया है।

दिल्ली और राजस्थान निवासी पीयूष मोंगा, योगेश रावल और रेंचो देसाई रेप फ्री इंडिया अभियान पर निकले हैं। इनका दावा है कि पिछले साल 17 अक्टूबर को निर्भया के माता-पिता ने इनकी यात्रा को दिल्ली के जंतर-मंतर से हरी झंडी दिखाकर रवाना किया था। इनकी यात्रा को लगभग साढ़े चार महीने बीत चुके हैं और इन्होंने साढ़े चार महीनों में आठ हजार दो सौ किलोमीटर की यात्रा पूरी कर ली है। अभी लगभग बयालीस हजार किलोमीटर की यात्रा बांकी है। ये तीनों युवा अपने यात्रा के दौरान रास्ते मे पड़ने वाले स्कूल और कॉलेजों में जाकर युवाओं को जागरूक कर रहे हैं। इसके अलावा गांव-गांव जाकर ग्रामीणों से मिलकर रेप मुक्त भारत बनाने की अपील भी कर रहे हैं।

जागरूकता फ़ैलाने के लिए सोशल मीडिया का भी सहारा लिया
पीयूष ने बताया कि उनके समूह के लोग सोसल मीडिया पर भी youth_against_rape पेज तैयार कर रेप मुक्त भारत के लिए जनजागरुकता अभियान चला रहे हैं। इंस्टाग्राम में लगभग 63 हजार फॉलोवर्स हैं और जो इस मुहिम में हमारी मदद करते हैं। आपको बता दें कि इनकी उम्र महज 19, 21 और 22 साल है। जशपुर के स्कूल में भी इन्होंने बच्चों और ग्रामीणों को जागरूक किया।