सरकार की मंशा लोगों को रोजगार नहीं, बेरोजगार रखने की:- कुणाल चौधरी

सरकार की मंशा लोगों को रोजगार नहीं, बेरोजगार रखने की:- कुणाल चौधरी

सरकार की मंशा लोगों को रोजगार नहीं, बेरोजगार रखने की:- कुणाल चौधरी

 

मध्यप्रदेश/भोपाल: प्रदेश में बेरोजगारी अपने चरम पर है ऐसे में प्रदेश मे लाखों लोग बेरोजगार हैं और नौकरी के लिए जूझ रहे है और शिवराज सरकार ऐसे में सिर्फ बड़े-बड़े दावे कर रही है। फिर भले ही वो 2018 से रुकी चयनित शिक्षकों की भर्ती हो, या फिर पटवारियों की भर्ती इस मामले पर आज भी मध्य प्रदेश सरकार सिर्फ आश्वासन ही दे रही है, इस मामले पर जब द लोकनीति के एक इंटरव्यू में कालापीपल के विधायक कुणाल चौधरी से बात हुई तो उन्होने कहा की "ये सरकार झूठ कहती है जब कांग्रेस की सरकार थी तब साल भर में हमने उनकी परीक्षा करवाई, उनका इंटरव्यू करवाया, अब सिर्फ उनका जॉइनिंग लेटर देना रह गया था और डेढ़ साल से शिवराज सरकार बस उन्हें टाल रही है, बड़ी दुख की बात है कि जिनका रोजगार लग चुका है उन्हें सैलरी ना देना पड़े इसलिए सरकार ध्यान नहीं दे रही।"

 

कुणाल चौधरी का यह भी कहना है कि सरकार की मंशा लोगों को रोजगार देने की नहीं बल्कि उन्हें बेरोजगार करने की है उन्होंने कहा कि यदि आम इंसान बेरोजगार रहेगा तो उनका ध्यान सिर्फ इधर-उधर की बातों में रहेगा जिससे वो सरकार से सवाल नही करेगा। 

 

स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार ने इस बात पर आश्वासन दिया है कि जल्दी चयनित शिक्षकों की जॉइनिंग कराई जाएगी, अब देखने वाली बात यह है कि क्या सरकार चयनित शिक्षकों और पटवारी भर्ती के मामले में सिर्फ आश्वासन देगी या फिर जल्दी ही मामले पर कदम उठाएगी।