सभी खबरें

इतिहास गवाह है, मेरे परिवार को "सत्ता की भूखा नहीं", मुझे पिता के फैसले पर गर्व है – महाआर्यमन सिंधिया

नई दिल्ली/मध्यप्रदेश/भोपाल – कांग्रेस के बड़े चेहरे रहे ज्योतिरादित्य सिंधिया के मंगलवार को पार्टी से इस्तीफा दे दिया। उनके इस्तीफे के बाद देश समेत प्रदेश की सियासत में बवाल मच गया। कोंग्रेस के कई दिग्गज नेताओं ने सिंधिया के इस फैसले पर आलोचना की। यहां तक की उनके नाम के पुतले भी जलाए गए। कांग्रेस मंत्री, नेता समेत कई कार्यकर्ता उनके इस फैसले पर हमलावर हैं। वो लगातार सिंधिया पर हमला बोल रहे हैं। 

लेकिन इन सब के बीच तिरादित्य सिंधिया को अपने बेटे महाआर्यमन सिंधिया का समर्थन मिला हैं। उन्होंने ट्वीट करते हुए अपने पिता के फैसले को सही बताया हैं।

 

I am proud of my father for taking a stand for himself. It takes courage to to resign from a legacy. History can speak for itself when I say my family has never been power hungry. As promised we will make an impactful change in India and Madhya Pradesh wherever our future lies.

— M. Scindia (@AScindia) March 10, 2020

 

महाआर्यमन सिंधिया ने ट्विटर पर पोस्ट किया और लिखा कि उन्हें अपने पिता पर गर्व है कि उन्होंने ये फैसला लिया। एक विरासत से इस्तीफा देना आसान नहीं होता। उन्होंने आगे लिखा की – इतिहास इस बात की गवाही देता है कि मेरा परिवार कभी सत्ता का भूखा नहीं रहा हैं। हम भविष्य में मध्य प्रदेश और भारत को नई ऊंचाईयों पर ले जाएंगे। 

इस ट्वीट से पहले भी जब ज्योतिरादित्य सिंधिया ने अपना इस्तीफा सार्वजनिक किया था, तब भी महाआर्यमन ने लिखा था कि दुख की बात है कि बात यहां तक पहुंच गई।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button