महिला अधिकारी का जनपद CEO पर गंभीर आरोप, अकेले बुलाकर शारीरिक संबंध बनाने हेतु डालते थे दबाव, देते थे घमकी 

महिला अधिकारी का जनपद CEO पर गंभीर आरोप, अकेले बुलाकर शारीरिक संबंध बनाने हेतु डालते थे दबाव, देते थे घमकी 

मध्यप्रदेश/भोपाल - मध्यप्रदेश के विधानसभा क्षेत्र नसरुल्लागंज जनपद पंचायत से एक मामला सामने आया है, जहां एक महिला अधिकारी ने जनपद सीईओ पर बेहद गंभीर आरोप लगाया हैं। महिला अधिकारी का आरोप है कि जनपद सीईओ वृंदावन मीणा उन्हें ऑफिस में रात 10 बजे तक रुकने का आदेश देते हैं, जबकि वह अकेली महिला कर्मचारी हैं। कई बार वृंदावन मीणा उन्हें केबिन में अकेले बुलाते हैं और शारीरिक संबंध बनाने हेतु दबाव डालते हैं। उन्होंने ये भी कहा कि ऐसा नहीं करने पर वे उन्हें नौकरी से बर्खास्त कर देने की धमकी देते हैं। महिला अधिकारी ने बताया कि सीईओ ने उन्हें धमकी दी है कि वो अपना तबादला कहीं और करवा लें अन्यथा वो उन्हें ऐसे ही परेशान करते रहेंगे। 

उनका कहना है कि सीईओ मीणा उनके प्रति गलत भावना रखते हैं और स्टाफ के सामने अभद्र तरीके से पेश आते हैं। बता दें कि महिला अधिकारी सहरिया जनजाति से ताल्लुख रखती हैं। उनका कहना है कि इसी आधार पर सीईओ जातिगत भेदभाव भी करते हैं। इतना ही नहीं महिला अधिकारी ने अपने ऊपर हो रहे शोषण की शिकायत लिखित तौर पर कलेक्टर अजय कुमार गुप्ता को दी हैं। इस शिकायत के माध्यम से उन्होंने बताया कि उनका मानसिक शोषण हो रहा है जबकि वो पूरी निष्ठा से अपने कर्तव्य का निर्वहन करती आईं हैं। 

महिला अधिकारी ने बताया कि सीईओ मीणा ने उनका 3 महीने का वेतन भी रोक रखा हैं। खास बात ये है कि महिला के पति गुना जिले में पुलिस आरक्षक हैं, महिला की मांग है कि उन्हें भी गुना में ही पोस्टिंग दे दी जाए। महिला अधिकारी ने यहां तक कह दिया कि ऐसा न किये जाने पर उनके पास आत्महत्या करने ज सिवाय कोई चारा नहीं हैं।