दमोह : पुलिस ने स्याही फेंके जाने वाले तीसरे आरोपी को गिरफ्तार ,कर न्यायालय में किया पेश

दमोह : पुलिस ने स्याही फेंके जाने वाले तीसरे आरोपी को गिरफ्तार ,कर न्यायालय में किया पेश

पुलिस ने स्याही फेंके जाने के मामले में तीसरे आरोपी को भी गिरफ्तार लेकर न्यायालय में पेश किया और - राहुल क्यों पहुंचे जयंत मलैया के निवास पर
-राहुल बोले-जयंत मलैया राजनीति के भीष्म पितामह इसलिए उनका आशीर्वाद लेने आया था
दमोह से शंकर दुबे की रिपोर्ट : - 
 वेयरहाउसिंग कॉरपोरेशन के अध्यक्ष राहुल सिंह ने आज अपने प्रतिद्वंदी और पूर्व मंत्री जयंत मलैया से उनके निवास पर पहुंचकर भेंट की। उनकी इस भेंट  के अब अलग मायने निकाले जा रहे हैं। दूसरी ओर पुलिस ने स्याही फेंके जाने के मामले में तीसरे आरोपी को भी गिरफ्तार लेकर न्यायालय में पेश किया।
        राजनीति के अखाड़े में कभी आमने सामने एक दूसरे पर आरोप लगाने वाले चिर परिचित प्रतिद्वंदी राहुल सिंह और पूर्व वित्त मंत्री जयंत मलैया आज एक साथ नजर आए। अवसर था जयंत मलैया के निवास पर राहुल सिंह के एकाएक पहुंचने का।वेयरहाउसिंग कॉर्पोरेशन का अध्यक्ष बनाए जाने और कैबिनेट मंत्री का दर्जा मिलने के बाद 17 तारीख को राहुल सिंह दमोह पहुंचे थे। उसके तीसरे ही दिन आज वह अपने पूर्व प्रतिद्वंदी जयंत मलैया के निवास पर भी पहुंचे। दोनों नेताओं के बीच काफी देर तक बातचीत होती रही। इस मौके पर भाजपा के अन्य नेता भी वहां पर मौजूद रहे। हालांकि दोनों नेताओं के बीच चुनाव को लेकर अंदरुनी क्या बातचीत हुई इस बात का खुलासा दोनों ने ही नहीं किया। दोनों नेताओं ने इतना जरूर कहा कि राम मंदिर निर्माण को लेकर चल रहे चंदा कार्यक्रम तथा कोविड-19 से संबंधित चर्चा ही उन्होंने की है। कोई और बातचीत नहीं हुई। मुलाकात के बाद जब राहुल सिंह से इस बावत पूछा गया तो उन्होंने मंझे हुए नेता की तरह बहुत ही सटीक और नपे तुले लहजे में अपना जवाब दिया, बकौल राहुल-जयंत मलैया जी भाजपा के वरिष्ठ नेता और दमोह की राजनीति के भीष्म पितामह हैं।  वह पार्टी के वरिष्ठ नेता हैं। मेरे पिता के और उनके पुराने संबंध थे, इसलिए उनका आशीर्वाद लेने आया था। वहीं दूसरी ओर जयंत मलैया ने भी यही कहा कि राहुल सिंह से कोविड-19 और राम मंदिर निर्माण को लेकर चल रहे कार्यक्रम पर चर्चा हुई है। यह पूछे जाने पर कि क्या चुनावी चर्चा हुई है और वह चुनाव लड़ने का दावा कर रहे हैं ? इसके जवाब में जयंत मलैया ने कहा कि वह चुनाव लड़ रहे हैं तो अच्छी बात है। जब  मलैया से पूछा गया कि उन्होंने टिकट मिलने का दावा किया है तो जयंत मलैया ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। बार-बार पूछे जाने पर कहा कि मैं हर सवाल का जवाब देना मुनासिब नहीं समझता। राहुल और जयंत मलैया की इस मुलाकात के बाद अब यह माना जा रहा है कि संभवत:  राहुल पूर्व वित्त मंत्री को मनाने के लिए ही गए होंगे? क्योंकि यह बात राहुल  भली-भांति जानते हैं कि जयंत मलैया की दमोह विधानसभा में काफ़ी मजबूत पकड़ है। ऐसे में यदि जयंत मलैया का उन्हें आशीर्वाद मिल जाता है तो फिर तमाम बाधाएं दूर हो जाएंगी, और चुनाव जीतने का रास्ता बहुत ही सरल हो जाएगा। इसके इतर यदि जयंत मलैया नहीं माने तो ऐसे में राहुल के लिए चुनाव की राह कठिन हो सकती है?
 तीसरा आरोपी भी जेल पहुंचा : -
17 तारीख को राहुल सिंह के दमोह आगमन के दौरान जूतों की माला और स्याही फेंकने के मामले में आज पुलिस ने तीसरे आरोपी को भी न्यायालय में पेश किया। जहां से उसे जेल भेज दिया गया। कोतवाली टीआई एच आर पांडे ने बताया कि सुनील राजपूत और दृगपाल सिंह लोधी को उसी दिन पकड़ लिया गया था। वहीं आज वीडियो फुटेज और अन्य साक्ष्य के आधार पर तीसरे आरोपी राजीव गांधी कॉलोनी निवासी गीतेश अठ्या को गिरफ्तार कर लिया गया है। हालांकि सूत्रों का कहना है कि आरोपी ने एक अधिवक्ता के माध्यम से कोतवाली पहुंचकर सरेंडर किया था।