विदेशी अखबारों ने फ्रंट पेज पर उतारी भारतीय सरकार के नकारे पन की तस्वीर!!

विदेशी अखबारों ने फ्रंट पेज पर उतारी भारतीय सरकार के नकारे पन की तस्वीर!!

विदेशी अखबारों ने फ्रंट पेज पर उतारी भारतीय सरकार के नकारे पन की तस्वीर!!

द लोकनीति डेस्क/गरिमा श्रीवास्तव

 कल अमेरिका की अखबार न्यूयॉर्क टाइम्स में भारत में हो रहे कोरोना से मौतों को लेकर एक रिपोर्ट छपी थी जिसके बाद आज फिर से ऑस्ट्रेलिया के अखबार के प्रथम पृष्ठ पर नहीं हो रही मौतों के आंकड़े और सरकार के नकारे पन की रिपोर्ट छापी गई है. ऑस्ट्रेलियाई अखबार ने लिखा कि घमंड अंध राष्ट्रवाद नौकरशाही की अयोग्यता ने भारत को तबाही में ढकेल दिया आप सोचिए कि घमंड की पहचान किससे है.

 सरकार अपने नकारे पन को छुपाने के लिए हर कोशिश कर ले सोशल मीडिया से पोस्ट डिलीट कराए जाएं पर पूरा विश्व अब देख रहा है कि कैसे अपनी जीत अपनी राजनीति के पीछे सरकार ने जनता को मौत के मुंह में धकेला है.

 पूरा विश्व देख रहा है कि भारत के राजनीतिक बिचौलिए अपना पत्ता खेलने की कोशिश कर रहे हैं और देश जल रहा है. सऊदी अरेबिया ने आज ऑक्सीजन की मदद की. अन्य देश भी अलग-अलग तरह से मदद कर रहे हैं. भारत वही देश है जब किसी भी देश पर कोई भी संकट आन पड़ता है तो  भारत से मदद किया जाता है और आज कुर्सी के लोलुपपन ने स्थिति इतनी बुरी कर दी कि भारतीय जनता मौत के मुंह में समाती जा रही है.

 मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में सरकार मौत के झूठे आंकड़े बता रही है. सिर्फ अप्रैल के मध्य की बात करें तो 13 दिन के अंदर करीब एक हजार लाशें कोरोना प्रोटोकॉल के तहत जलाई गई पर सरकारी आंकड़ों में सिर्फ 41 मौत की बात कही गई है. इसी तरह से अन्य राज्यों में भी मौत के झूठे आंकड़े बताए जा रहे हैं.  जनता मर रही है और सत्ता के लोभी प्रचार प्रसार करने में मस्त हैं.