त्यौहारों में भी मंदी की मार झेल रहा बाजार, दीवाली तक सुधरने के नहीं दिख रहे कोई आसार

त्यौहारों में भी मंदी की मार झेल रहा बाजार, दीवाली तक सुधरने के नहीं दिख रहे कोई आसार

बाजार झेल रहा त्यौहारों के दौरान 'मंदी' की 'मार' 

जैसे कि त्यौहारों का मौसम चल रहा है | दशहरा बीत चुका है और अब दीवाली नज़दीक आ चुकी है | लेकिन, इसके बाद भी इसके बाज़ारों की रौनक लौटती हुई नजर नहीं आ रही है | ये त्योहारों का मौसम चल रहा है, लेकिन समारोह का मूड गायब नजर आ रहा है |

वहीं, एक व्यापारी के अनुसर, इस साल धंधा मंदा चल रहा है और दिवाली तक भी बाजार के सुधरने के कोई आसार नहीं दिख रहे हैं | पिछले साल के मुक़ाबले बिजनेस 40 से 50% कम है और आर्थिक मंदी चल रही  है | हम छोटे दुकानदार इसकी क़ीमत चुका रहे हैं |

इसके अलावा, मुंबई के एक ट्रेडर एसोसिएशन ने भी इस बात की पुष्टि की है कि 40 प्रतिशत कारोबार पर मंदी का प्रभाव पड़ा है | हालांकि छोटे ख़रीददारों के बाज़ार में ई-कॉमर्स द्वारा भी ख़ासी सेंधमारी कर ली गई है, लेकिन लोगों के ख़र्च करने की ताक़त भी घट चुकी है | यहां तक स्थिति यह है कि सोना भी; जिसे भरोसेमंद निवेश माना जाता है, वो भी इस मौसम में कुछ ख़ास नहीं कर पा रहा है |