मप्र रैगांव उपचुनाव : BJP में बगावत! रूठे हुए सदस्यों के साथ हुई मंत्री-नेता की बैठक, अब ये होना संभव

मप्र रैगांव उपचुनाव : BJP में बगावत! रूठे हुए सदस्यों के साथ हुई मंत्री-नेता की बैठक, अब ये होना संभव

रैगांव : सतना जिले की रैगांव विधानसभा सीट बीजेपी विधायक जुगल किशोर बागरी के निधन से खाली हुई है। वो भाजपा के पुराने नेता थे। निधन के बाद इस सीट पर हो रहे उपचुनाव में उनके बड़े बेटे पुष्पराज बागरी और छोटी बहू वंदना बागरी ने टिकट के लिए दावा पेश कर दिया था। पहले दोनों में अनबन थी। लेकिन जब पार्टी ने प्रतिमा बागरी को टिकट दे दिया तो जुगल किशोर बागरी का परिवार यानि जेठ-बहू साथ हो गए और दोनों ने इस सीट के लिए नामांकन भर दिया। 

वहीं, दोनों ने जब इस सीट से नामांकन भरा तो पार्टी की बेचैनी बढ़ने लगी। बता दे कि भितरघात के कारण दमोह सीट खो चुकी भाजपा इस बार कोई रिस्क लेने के मूड में दिखाई नहीं दे रही है, यही वजह है कि पार्टी ने बागियों को मानाने के लिए एड़ी चोटी का ज़ोर लगा दिया। खास बात ये भी रही की बागियों को मानाने की ज़िम्मेदारी खनिज मंत्री बृजेन्द्र सिंह और पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष गगनेन्द्र सिंह को सौंपी गई थी। 

बताया जा रहा है कि खनिज मंत्री बृजेन्द्र प्रताप सिंह और भाजपा नेता गगनेन्द्र प्रताप सिंह ने मंगलवार को इन रूठे हुए सदस्यों के साथ बैठक की। जिसके बाद बागरी परिवार ने अपने तेवर नरम किये और अपना नामांकन वापिस लेने के लिए हामी भर दी है। इसके अलावा राकेश कोरी भी अपना नामांकन पत्र वापस लेने के लिए तैयार हो गए है। कहा जा रहा है कि आज 12 बजे तक भाजपा के सभी बागी अपना नामांकन वापस ले सकते हैं। क्योंकि नामांकन वापस लेने की आज अंतिम तारीख है।