मप्र : सचिन पायलट की एंट्री पर ये क्या बोल गए "महाराज", बना चर्चा का विषय

मप्र : सचिन पायलट की एंट्री पर ये क्या बोल गए "महाराज", बना चर्चा का विषय

भोपाल से खाईद जौहर की रिपोर्ट - मध्य प्रदेश (MadhyaPradesh) की 28 सीटों पर होने उपचुनाव (Byelection) होने हैं। जिसको लेकर प्रदेश में बवाल मचा हुआ हैं। लेकिन इन 28 सीटों में से 16 सीटे ग्वालियर-चंबल (Gwalior Chambal) क्षेत्र की हैं। जहां कांग्रेस और भाजपा दोनों की नज़रे टिकी हुई हैं। 

कांग्रेस ने ग्वालियर-चंबल क्षेत्र से राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री युवा तुर्क सचिन पायलट (Sachin Pilot) को स्टार प्रचारक बनाया हैं। सचिन पायलट को यहां से स्टार प्रचारक बनाने के बाद भाजपा ने तंज कसा हैं। 

सचिन पायलट (Sachin Pilot) के उपचुनाव में प्रचार करने को लेकर राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा-चुनाव में सब का स्वागत है, हर पार्टी अपनी नीति तय करती हैं। मुझे पूरा विश्वास है जो विकास के मुद्दे को लेकर हम जनता के बीच जा रहे हैं उसमें जनता का आशीर्वाद पूर्ण रूप से भारतीय जनता पार्टी को मिलेगा।

वहीं, सिंधिया ने कर्ज़माफी को लेकर भी कांग्रेस पर निशाना साधा। सिंधिया ने कहा जो वादा था 10 दिन में संपूर्ण कर्ज माफी करेंगे वह 10 महीने तो क्या 15 महीने में नहीं कर पाए।

इस से पहले शिवराज सरकार में चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग (Minister Vishvas Sarang) ने सचिन पायलट की एंट्री पर तंज कसते हुए कहा था कि इस से साफ है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chouhan) और ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) के कद का नेता मध्यप्रदेश कांग्रेस में नहीं बचा हैं। कांग्रेस ने यह बात स्वीकार कर ली हैं। 

मालूम हो कि ग्वालियर (Gwalior) की 16 सीटों में से करीब 9 सीटें गुर्जर बाहुल्य सीटें हैं। सचिन पायलट राजस्थान (Sachin Pilot Rajasthan) के गुज्जर समुदाय के बड़े नेता माने जाते हैं और यही गुज्जर समुदाय मध्यप्रदेश में गुर्जर कहलाते हैं। इस समाज पर पायलट का प्रभाव माना जाता हैं। इसलिए कांग्रेस ने यहां सचिन पायलट की एंट्री करवाई हैं।