बहुचर्चित हनीट्रैप मामले की मुख्य आरोपी श्वेता जैन की फ़ोटो भाजपा नेताओं के साथ मंच साझा ओर चुनावी रैली पर आई नज़र

बहुचर्चित हनीट्रैप मामले की मुख्य आरोपी श्वेता जैन की फ़ोटो भाजपा नेताओं के साथ मंच साझा ओर चुनावी रैली पर आई नज़र

इंदौर:मध्यप्रदेश के बहुचर्चित हनीट्रैप मामले में कांग्रेस ने भाजपा पर मंगलवार को लगाए गंभीर आरोप | 
दरअसल प्रदेश कांग्रेस सचिव राकेश सिंह ने कुछ फोटो जारी किए ,जिनमें भाजपा के कार्यक्रमों में नेताओं के साथ श्वेता विजय जैन साफ़ नजर आ रही है। फोटो वायरल होते ही पार्टी में हडक़ंप की स्थिति पैदा हो गई है। फ़िलहाल मामले में अभी कोई भी कुछ बोलने को तैयार नहीं है।

बीजेपी का काला चेहरा बेनकाब हुआ :राकेश सिंह
 कांग्रेस प्रदेश सचिव राकेश सिंह ने आरोप लगाए कि बीजेपी का काला चेहरा बेनकाब हुआ है। भाजपा लगातार 15 साल से हनीट्रैप को संरक्षण देती आई है। जो फोटो सामने आए हैं वो 2013 के चुनाव प्रचार के दौरान का है। यह पूर्व गृहमंत्री भूपेंद्रसिंह का इलाका है। फोटो में श्वेता जैन दिखाई दे रही है। उन्होंने कहा कि आज यह साबित हो गया है कि भाजपा किस तरह झूठ बोलती है। अब दिग्विजयसिंह का वो बयान सही साबित हो रहा है, जिसमें उन्होंने कहा कि बीजेपी के अंडरटेकिंग ये पूरा हनीट्रैप कांड चल रहा था। इसके सरगना भाजपा के बड़े नेता है जो बड़े पदों पर 15 साल से बैठे थे।

STF(special task force) को सौंपी जांच 
 एसटीएफ को जांच सौंपी गई है, अब बहुत से चेहरे बेनकाब होंगे। ये फोटो भाजपा नेताओं ने बहुत छुपाने की कोशिश की। वेबसाइट, फेसबुक से भी गायब कर दिए, लेकिन सच छुपता नहीं है। कांग्रेस कार्यकर्ताओं की मेहनत से सच सामने आया है। भूपेंद्र सिंह के बयान को लेकर उन्होंने कहा कि यह खुरई में उन्हीं का मंच है और इंदौर आकर झूठ बोल रहे हैं। यह भी एक अपराध है।

  •  भूपेंद्र सिंह बोले थे- किसी भी पार्टी के हो नेता, नाम आना चाहिए सामने
  • : पिछले दिनों संगठन की बैठक में इंदौर आए पूर्व गृहमंत्री और भाजपा नेता भूपेंद्र सिंह ने हनीट्रैप को लेकर कहा था कि यह बहुत बड़ा मामला है। इसमें किसी भी पार्टी के नेता-अफसर हो सभी का नाम सामने आना चाहिए। राजनीतिक दबाव के चलते पुलिस खुलकर काम नहीं कर पा रही है। मामले की जांच सीबीआई या किसी अन्य एजेंसी से कराई जाना चाहिए।
  • इसी तरह इंदौर प्रवास के दौरान पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह ने हनीट्रैप केस को लेकर बीजेपी पर कटाक्ष किया था। उन्होंने कहा था कि यह मालूम करें कि जब जीतू जिराती युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष थे तब श्वेता पति विजय जैन युवा मोर्चा की महामंत्री थी कि नहीं। उस वक्त महाराष्ट्र युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष निलंगेकर थे जो फिलहाल फडणवीस सरकार में मंत्री है। जब श्वेता जैन का वीडियो वायरल हुआ तो वे महाराष्ट्र में किसके साथ थी यह भी पता लगाया जाना चाहिए।
  •  दिग्विजयसिंह के आरोपों का भाजयुमो के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष जीतू जिराती ने जवाब दिया था। उन्होंने कहा था कि मैं जिस समय भाजयुमो का प्रदेश अध्यक्ष था उस समय श्वेता जैन भाजयुमो की महामंत्री नहीं थी। इस मामले में कमलनाथ सरकार किसी भी एजेंसी से जांच करवा सकती है। जो भी आरोपी हैं, अपराधी हैं, उनका नाम सामने लाएं।